बिहार: आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा- बेगूसराए सीट पर कन्हैया कुमार की दावेदारी CPI से गठबंधन नहीं होने की वजह बनी

Lok Sabha Election 2019: बिहार के महागठबंधन में जगह नहीं मिलने के बाद लेफ्ट पार्टी सीपीआई अकेले चुनावी मैदान में उतरी है. पहले संभावना जताई जा रही थी कि बेगूसराए से जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार महागठबंधन के उम्मीदवार हो सकते हैं. लेकिन राष्ट्रीय जनता दल के प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद मनोज झा का कहना है कि बेगूसराए सीट की वजह से ही सीपीआई के साथ गठबंधन नहीं हो पाया.

आरजेडी किसी भी शर्त पर बेगूसराए की सीट छोड़ने को तैयार नहीं थी. मनोज झा ने कहा, ”हमारी पार्टी बेगूसराए की सीट पर समझौता नहीं कर सकती थी. तनवीर हसन वहां पॉपुलर हैं और उन्होंने बेगूसराए में अच्छा काम किया है.”

बेगूसराए में आरजेडी को मजबूत बताते हुए मनोज झा ने कहा, ”हम वहां बेहद मजबूत हैं. 2014 में कथित मोदी लहर के बावजूद हमारे उम्मीदवार को करीब चार लाख वोट मिले. हम तनवीर हसन का टिकट नहीं काट सकते थे. ये हमारे कार्यकर्ताओं के बारे में था. बस इसी वजह से हमारी बात नहीं बन पाई.

बता दें कि 2014 में आरजेडी के उम्मीदवार को बीजेपी के उम्मीदवार के हाथों करीब 55 हजार वोट से हार का सामना करना पड़ा था. इस सीट पर सीपीआई के उम्मीदवार को 1.92 लाख वोट मिले थे.

2019 के चुनाव के लिए बेगूसराए सीट पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, तनवीर हसन और कन्हैया कुमार के बीच मुकाबला होगा. नवादा सीट एलजेपी के हिस्से में जाने के बाद बीजेपी ने गिरिराज सिंह को बेगूसराए भेजा है. पहले गिरिराज सिंह इस सीट पर चुनाव लड़ने से इंकार कर रहे थे, पर बाद में नाराजगी दूर होने के बाद वह यहां से चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो गए.

बिहार में सभी सात चरणों में वोट डाले जाएंगे. पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल जबकि अंतिम चरण का मतदान 19 मई को होगा. वोटों की गिनती 23 मई को होगी

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *